Make your own free website on Tripod.com

Manoshi Hindi Page

smritiyon kaa aangan
Home
meri ghazal
holee geet voice
Prem
smriti
pooja
ujaala
prakriti
kuchh khayaal
kuchh yun hee
Haiku
Dohe
Avasar
nazm
baal kavitaayein
be-bahar ghazalein
kahaniyaan
Poetry in English
some links of mine

 
स्मृतियों का आँगन

earthen_lamp.jpg

 
स्मृतियों के  आँगन में

 
स्मृतियों के विस्तृत आँगन में
मन मन्दिर के इस प्राँगण में
तुम्हारी मूरत के छाँव तले
एक दीपक चुपचाप जले
 
इक लहराता सा प्रतिबिम्ब
उभरे और हो जाये धूमिल
फिर छलकती बूँदों के सँग
सरिता बन निर्झर झरे
 
बाँध कर कुछ क्षण आँचल में
डूब कर स्मृति के काजल में
रात पूनम की रूप बिखेरती
बन सादी बिरहिनी झरे
 
गूँथ कर प्राणों मे ज्यों स्वर
मधुर राग बन झंकृत हो कर
बज उठे जल तरंग सी हवा
प्रणय गीत बन सुर ढले
 
सीमाऒं के बंधन सब तज
आँखों में सुन्दर सपना सज
दबे पाँव आते हो जब तुम
लहरोँ क उफ़ान चले
 
जीवन का प्रतिक्षण प्रतिपल
रहा उन्माद अभिलाषा में जल
मृगतृष्ना में भ्रमित मन अब
लौट चल कि दिन ढले
 
चुपचाप जल रहा नवैद्य थाल में
स्मृतियों को गूँथ जीवन माल में
अन्तर में छुपा पीडा असह्य
स्वप्न यथार्थ के गाँव चले
 
 

all poems by manoshi chatterjee